Toll Free Number : 18001808001 Notifications Publications

eUdyan

Department of Horticulture

Government of Himachal Pradesh

Welcome to IHSMS, Department of Horticulture, Govt. of H. P.

जनवरी पहला पखवाड़ा
पर्णपाती फलदार पौधें :
  1. गोबर व उर्वरक प्रयोग : यदि दिसम्बर के माह तक गोबर, फास्फोरस तथा पोटाश खाद डालने का काम पूरा न हो तो यह कार्य पूरा कर लें |
  2. कटाई – छंटाई : सभी शीतोष्ण फलों में कांट-छांट व सीधाई के कार्य के लिए यह उचित समय हैं| कांट-छांट के बड़े घावों पर चौबाटिया पेस्ट का लेप लगाएं| कांट-छांट के बाद बोर्डो मिश्रण या कॉपर फफूंदनाशक दवाई का छिडकाव करें|
  3. नर्सरी से पौधों को उखाड़ने व बेचने का कार्य आरम्भ करें|
  4. पौध रोपण :- इस समय सभी शीतोष्ण फलों के पौधों को तैयार किये व भरे हुए गडढों में रोपित करें|
सदाबहार फलदार पौधें :-
  1. गोबर व उर्वरक प्रयोग :- आम, लीची, निम्बू प्रजातीय फलों के पौधों में खाद व गोबर डालने का कार्य पूरा करें|
  2. निम्बू प्रजातीय फलों के पौधों की पछेती किस्मो के फलों की तुड़ाई पूरी करें|
  3. छोटे पौधों को शीत पक्षाघात [पाले] से बचने के लिए घास से ढकें|
  4. बड़े पौधों को पाले से बचाने के लिए पाला पड़ने की सम्भावना में सिंचाई तथा धुआं करें|
  5. अमरुद के फलों को तोड़ कर मंडियों में भेजें |
जनवरी दूसरा पखवाडा
  1. कांट-छांट, सीधाई व खादो का उपयोग जहाँ बरफ न पड़ी हो और यह काम न हो सका हो तो पूरा कर लें|
  2. पौध-रोपण का काम पूरा कर लें|
सदाबहार फल :-
  1. किन्नू के फलों की तुडाई पूरी करें|
  2. अमरुद की तुड़ान करतें रहें|